यात्रियों के टॉवल चोरी करने से रेलवे को भारी नुकसान, 3 साल में 4000 करोड़ की लगी चपत

देश बिजनेस न्यूज़ साइंस/टेक्नोलॉजी

नई दिल्‍ली: इंडियन रेलवे को तौलिया व अन्‍य सामान चोरी होने से हजारों करोड़ रुपए की चपत लगी है. पिछले साल यात्रियों ने 1.95 लाख तौलिए चुरा लिये थे.

यही नहीं विभिन्‍न ट्रेनों से 81 हजार 736 चादरें, 55 हजार 573 तकिया कवर, 5 हजार 38 तकिया और 7 हजार 43 कंबल भी चोरी हो गए. अनुमान के मुताबिक 3 साल में रेलवे को इस चोरी से करीब 4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है.

200 टॉयलेट मग भी हुए चोरी
पश्चिम रेलवे का कहना है कि उसके 200 टॉयलेट मग, एक हजार नल टैप और 300 से ज्‍यादा फ्लश पाइप हर साल चोरी हो जाते हैं, जबकि मध्‍य रेलवे में छह माह में 79 हजार से अधिक तौलिए, 27 हजार चादरें, 21 हजार 50 तकिया कवर, 2 हजार 150 तकिया और 2 हजार 65 कंबल चुराए गए.

रेलवे बंद कर चुका है अब तौलिया देने की सुविधा
हालांकि रेलवे बोर्ड ने कुछ माह पहले एक आदेश जारी किया था जिसके मुताबिक एसी डिब्बों में यात्रा करने वाले यात्रियों को जो फेस टॉवेल दिए जाते हैं उनकी जगह पर अब सस्ते, छोटे और एक बार इस्तेमाल योग्य नेपकिन दिए जाएंगे.

इसी क्रम में कुछ महीने पहले रेलवे बोर्ड ने एसी डिब्बों में यात्रा करने वालों को नायलॉन के कंबल उपलब्ध कराने का सभी जोनों को आदेश दिया था और अब कॉटन के बिना बुनाई वाले फेस टॉवल देने को कहा है.

http://zeenews.india.com/hindi/india

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *