दीमक बने मिर्ज़ा बंधुओ के चाटने पर लगे ब्रेक के बाद काटो पर चलकर प्रोफेसर शबीह रज़ा बाकरी की मेहनत लायी रंग, लखनऊ के ऐतिहासिक 103 वर्ष पुराने शिया पीजी कालेज को पहली बार में ही नैक ने A+ के बजाय A ग्रेड दिया

Breaking News Latest Article उत्तर प्रदेश लखनऊ शिक्षा साइंस/टेक्नोलॉजी

तहलका टुडे टीम

लखनऊ:आज अदब की सरज़मी के लिए खुशी का दिन भी है,और गमी का भी,खुशी का इस लिए की नेक से A ग्रेड मिला वही अफसोस का मक़ाम इस लिए है कई ओलेमा की 103 साल की जद्दोजहद और मेहनत से बने शिया पीजी कॉलेज को दीमक की तरह चाट रहे मिर्ज़ा बंधुओ की वजह से यूनिवर्सिटी बनने में तामाम तरह की अड़चन डालने और मुसीबत खड़ा करने से आये गतिरोध से पड़ी शिकन से A+ ग्रेड मिलने से महरूम हो गया।

आफताबे शरीयत मौलाना कल्बे जवाद नक़वी साहब की शिया कॉलेज में भर्ष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने के ब्रेक का दीमकों पर असर ये रहा कि प्रिंसिपल प्रोफेसर शबीह रज़ा बाकरी ने काटो पर चलकर बेइंतेहा मेहनत करके क़ौम को आज नैक की स्टैन्डिग कॉन्सिल बैठक में फाइनल ग्रेड का एलान कारवाने का शरफ़ हासिल कर लिया ।

शिया पी. जी. कालेज द्वारा नैक की यात्रा और भविष्य की कार्य योजना को साझा करने के लिए बुलाई गई पत्रकार वार्ता में कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर शबीहे रज़ा बाक़री ने इस कामयाबी की जानकारी देते हुए ख़ुदा का शुक्र अदा करते हुए बताया कि महाविद्यालय द्वारा पिछले वर्ष दिसम्बर में आईक्यूएसी सब्मिट करने के बाद से ही तैयारियां चल रही थीं बीते 19 व 20 अक्टूबर, 2022 को नैक पियर टीम ने महाविद्यालय आकर विज़िट की और महाविद्यालय के अन्दर सभी सुविधाओं का भौतिक रूप से मूल्यांकन किया। एक्जिट मीट में पियर टीम के चेयरमैन प्रोफेसर कमल के. मिश्रा ने दो दिवसीय दौरे का अनुभव को साक्षा किया और कहा कि इस बदलते दौर में शिक्षा के क्षेत्र में शिया पी. जी. कालेज ने काफी सराहनीय काम किया है।

आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है आने वाले समय में यह महाविद्यालय शिक्षा जगत के शिखर पर जायेगा। इनके साथ गुजरात नेशनल लॉ विश्वविद्यालय गांधीनगर के निदेशक, प्रोफेसर संजीवी संथाकुमार, मेम्बर कोआर्डिनेटर व एमईएम अबा साहेब गरवारे महाविद्यालय, पूणे के प्राचार्य, प्रोफेसर. पंधारीनाथ बुचाडे़ टीम में सदस्य के रूम में शामिल थे। उनका यह सम्बोधन हमारी सफलता की कहानी को बयां करता है।
उन्होंने आगे कहा कि आज का दिन शिया कालेज की तारीख़ का यादगार दिन है।

103 साल पहले जिन बुर्जुगों आलिमो ने जिस सोच के साथ कालेज की बुनियाद रखी थी आज कालेज उनके सपनों को साकार करने की दिशा में और आगे बढ़ा है सभी बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज़ के सदस्यों, शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का योगदान सराहनीय है। उन्होंने आगे बताया कि नैक पियर टीम ने महाविद्यालय के अन्दर विभिन्न विभागों का भ्रमण किया तथा महाविद्यालय में मौजूद सभी सुविधाओं का जाएज़ा लिया।
स्मार्ट क्लास, आइसीटी टूल्स, वाटर हार्वेस्टिंग, ई-गर्वनेन्स, सोलर व सेन्सर लाइट, खेलकूद व सांस्कृतिक आयोजनों की सुविधाओं का जाएज़ा लिया। पियर टीम ने छात्रों, एलयूमीनी, पेरेन्टस से भी अलग-अलग मुलाकात कर कालेज के बारे में जानकारी एकत्र की।
महाविद्यालय ने क्राईटेरिया 01 में 3.4 क्राईटेरिया 02 में 2.93 क्राईटेरिया 03 में 3.08 क्राईटेरिया 04 में 3.51 क्राईटेरिया 05 में 2.83 क्राईटेरिया 06 में 2.92 क्राईटेरिया 07 में 3.37 कुल 3.09 अंक पाकर “A” ग्रेड प्राप्त किया।

प्रोफेसर ने कहा कि हमे उम्मीद थी कि हमको “A+” मिलेगा जिसके लिए विशेष योजना बना कर काम किया गया था हम आईक्यूएसी की बैठक बुलाकर अध्ययन करेगे कि हमारे प्रयास में कहां कमी रह गई और आने वाले दिनो में उसको कैसे सुधारा जाए। इस सम्बन्ध में महाविद्यालय की सबसे बड़ी उपलब्धी यह है कि नैक द्वारा निर्धारित स्टूडेन्ट सैटिसफैक्शन सर्वे SSS में 240 में से 220 अंक (91.66 प्रतिशत) अंक प्राप्त किये जो महाविद्यालय प्रशासन और छात्रों के बीच घनिष्ठ रिश्ते को प्रर्दशित करता है।

प्रोफेसर बाकरी ने कहा कि हम शिया पी. जी. कालेज के विकास की इस यात्रा को यहां रूकने नहीं देंगे और इसको आगे बढ़ाते हुए नई नई मंज़िलों तक पहुचाने का काम करेगे। आईक्यूएसी और कालेज प्रबन्ध समिति इस बारे में विस्तृत योजना बनाएगी लेकिन तात्कालिक रूप से उन्होने भविष्य की कुछ योजनाए भी साझा की।

  1. महाविद्यालय के स्तर पर शोध, रिसर्च प्रोजेक्ट, कन्सन्लटेन्सी सम्बन्धि कार्यो को बढ़ावा देना।
  2. छात्रों के प्लेस्मेंट के लिए और बेहतर प्रयास, विभिन्न संस्थानों के साथ एमओयू के माध्यम से छात्रों के लिए रोज़गार के अवसर बनाना।
  3. विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओ में छात्र/छात्राओं के बेहतर प्रर्दशन के लिए निःशुल्क कोचिंग सेन्टर की स्थापना।
  4. फाइनेन्स मैनेजमेन्ट व विभिन्न प्रबन्धकीय उप समितियों छात्रों का प्रतिनिधत्व को बढाना।
  5. महाविद्यालय में निरन्त विकास से प्राप्त की इस गुणवक्ता को आगे बढ़ाने के लिए सभी शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की मासिक रिर्पोट तथा वार्षिक अप्रेज़ल सिस्टम लागू किया जाएगा।
  6. ऑउटकम बेस एजूकेशन के प्रतिमानों और मानक के अनुरूप शिया कालेज को विकसित करना हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है जिसके लिए महाविद्यालय में विशेष कार्ययोजना और उस कार्ययोजना के अनुरूप कार्यशालाओं का आयोजन किया जाएगा।
    महाविद्यालय के अन्दर छुटटी के माहौल में भी गज़ब उत्साह का माहौल था जिसमें सभी शिक्षक व शिक्षणोत्तर कर्मचारियों आपस में मिल कर एक दूसरे को गले लगा कर मुबारक बाद दे रहे थे।
    ढोल नगाड़े जैसे हराम काम भी कुछ दीमक करते नज़र आये,वही पटाखों के साथ साथ मिठाई भी बाटी गयी है।

मालूम हो शिया कॉलेज ट्रस्ट के कई मेम्बरों की खवाहिश थी शिया यूनिवर्सिटी बन जाय लेकिन मिर्ज़ा बंधु इसमें रोड़ा बने हुए है, अपने खानदान की भर्ती का इल्जाम के साथ कई इनपर गंभीर लेन देन नियुक्तियों को लेकर आरोप लगे है,जिसको लेकर मैनेजमेंट में मुकदमा भी सुप्रीम कोर्ट में प्रचलित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *