संत के राज्य में,धर्म नगरी प्रयागराज में,ज़िल्लत की ज़िंदगी से इज़्ज़त की मौत बेहतर का नारा देकर मर गये महंत,मठ मंदिरों समेत वक़्फ़ की संपात्ति पर माफियाओ अधिकारियो के काकस का खुर्द बुर्द करने की मुहिम का नतीजा है महंत नरेंद्र देव गिरी की मौत,सेक्स वीडियो वायरल करने के खौफ से हुआ दिल दहलाने वाला कांड,सुसाइड नोट में खुलासा,कब तक वसीम रिज़वी उसके साथी आनंद गिरी जैसे दुराचारियो की हरकतों को किया जाएगा मुख्यमंत्री जी नज़रंदाज़?

Breaking News ज़रा हटके देश प्रदेश

तहलका टुडे टीम

प्रयागराज-प्रदेश में माफियाओ का बोल बाला सामने है,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सख्त पॉलिसियों के बाद भी मुख्तार अतीक की आड़ में कई हज़ार करोड़ की मठ मंदिरों के साथ वक़्फ़ संपत्तियों का नाश जारी है।इसमे नेताओ के साथ साथ अधिकारियो की मिली भगत जग जाहिर है,महंत नरेंद्र देव गिरी के साथ हुआ हादसा उनका सुसाइड नोट बयान कर रहा है।

उनको भय था कि उनका कोई सेक्स video उनका शिष्य आनंद देव गिरी वायरल कर देगा। महंत के सुसाइड नोट से पता चलता है कि उन्होंने किसी महिला के साथ संबंध बनाते वीडियो के वायरल होने के डर से आत्महत्या की है।

महंत नरेंद्र देव गिरी का सुसाइड नोट 8 पन्ने का है। उन्होंने आत्महत्या के लिए मजबूर करने के लिए तीन लोगों को नामज़द किया है।

सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र देव गिरी ने लिखा है-

मैं 13 सितंबर को आत्महत्या करने जा रहा था, लेकिन हिम्मत नहीं कर सका। आज जब हरिद्वार से सूचना मिली कि दो दिन के भीतर आनंद गिरी मेरा वीडियो कम्प्यूटर के माध्यम से किसी लड़की के साथ जोड़कर गलत काम करते हुए वायरल कर सकता है। अगर वीडियो वायरल होता है और मेरी बदनामी होती है तो मैं समाज में कैसे रहूँगा।

मैं कहां-कहां सफाई देता फिरूंगा। एक बार बदनाम हो जाउंगा, उसके बाद क्या होगा। मैं जिस पद पर हूं वहां से बदनामी के बाद कैसे जी पाउंगा।

मेरी मौत के लिए जिम्मेदार आद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी पुत्र आद्या प्रसाद तिवारी और आनंद देव हैं। मैं इन्हीं के कारण आत्महत्या करने को मजबूर हुआ हूं।

मैं प्रयागराज के पुलिस अधिकारियों से आग्रह करता हूं कि मेरी मौत के लिए जिम्मेदार लोगों को सजा दी जाए।

जिस तरह से मैंने अखाड़े में काम किया है, आदर्शों का पालन किया है, वैसे ही वो लोग उसका ख्याल करें। आसुतोष गिरी और अन्य साथी उसी तरह अखाड़े के लिए काम करें, जैसे मैं करता रहा हूं।

मालूम हो सरकार की रहम करम पर पलने वाले शिया वक़्फ़ बोर्ड के शातिर वक़्फ़ खोर वसीम रिज़वी ने इसी तरह के इल्जाम आफताबे शरीयत मौलाना कल्बे जवाद नक़वी पर लगाया था,लेकिन मज़बूत इरादे और ईमानदारी से वक़्फ़ बचाने की मुहिम में पूरे देश मे इंक़लाब पैदा करने वाले मर्दे मुजाहिद ने डटकर झूट मक्कारी का मुकाबला किया आखिर में इल्ज़ाम लगाने वालों का ही मुहँ काला हुआ,लेकिन वसीम के कई मठो से हुए ताल्लुक़ात का नतीजा रहा उसने गंदगी और अपनी आदतों को दूसरे कुनबे में डाल कर आज वही ब्लैक मैल शिष्य से करवा कर देश के एक बड़े महंत को आत्म हत्या करने को मजबूर कर दिया

मुख्यमंत्री योगी जी मुसलमानों में हो चाहे हिन्दुओं में हो जो भी दुराचारी माफिया हो चाहे वो आनद गिरी हो चाहे  वसीम रिज़वी हो इनके वर्चस्व को विकास दुबे की तरह समाप्त किया जाय।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *