गठबंधन नहीं होने से कांग्रेस को हो सकता है नुकसान

राजनीति

 

सौंसर : प्रदेश में कांग्रेस महागठबंधन स्थापित करने में विफल होने के बाद छोटे दलों ने अपने अपने प्रत्याशियों के नामो की घोषणा करना शुरू कर दिया है। सौंसर विधानसभा क्षेत्र से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने जनपद सदस्य रामेश्वर कवडेती को प्रत्याशी घोषित किया है वहीं आम आदमी पार्टी ने गोपाल कोठे को मैदान में उतारा है।

बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी भी चुनाव मैदान में होगी इन दोनों दलों के बीच दोस्ताना मुकाबला होगा। महागठबंधन के प्रयास में सफलता मिली होती तो कांग्रेस को इसका सीधा लाभ मिलता। महागठबंधन के प्रयास में विफल होने से 19 फीसदी वोटो का बिखराव होना तय माना जा रहा है।

छोटे दलों के चुनाव में खड़े होने से विशेष रूप से गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के कारण कांग्रेस को अधिक नुकसान हो सकता है। सौंसर विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशियों की घोषणा आगामी कुछ ही दिनों में हो सकती है। क्षेत्र के मतदाताओं में कांग्रेस प्रत्याशी के नाम को लेकर भारी उत्सुकता है क्योंकि इस बार सौंसर विधानसभा क्षेत्र से दावेदारों की सूची लंबी होने के कारण प्रत्याशी चयन में कठिनाइयां हो रही है।

फिर भी कुछ ही दिनों में प्रत्याशियों की घोषणा होने की संभावना है। कांग्रेस के जिन तीन दावेदारों के नाम पैनल में शामिल है उनमें विजय चौरे संदीप भकने और युवराज जिचकार का नाम शामिल होने की राजनीतिक गलियारों में चर्चा हो रही है।

इन तीन नामों में विजय चौरे के नाम अंतिम मुहर लगाई जा सकती है पिछले अनेक दिनों से विजय चौरे का नाम दावेदारों की सूची में शीर्ष पर रहा है ब्लॉक कांग्रेस कमेटी इस सौंसर का पूर्ण समर्थन पूर्व से ही मिलने के कारण विजय चोरे की दावेदारी को मजबूत माना जा रहा था। कांग्रेस हाईकमान द्वारा पिछला विधानसभा चुनाव 3000 मतों के अंतर से हारने वाले दावेदारों के नामों पर भी विचार किए जाने के निर्देश मिलने के बाद युवराज जिचकार बका नाम भी कांग्रेस हाईकमान के पास विचार के लिए गया है।

जिचकार पिछला विधानसभा चुनाव 3000 से भी कम अंतर से चुनाव हारे थे इसलिए भी जिचकार एवं उनके समर्थक टिकट की आस लगाए बैठे है। भाजपा प्रत्याशी के रूप में विधायक नाना मोहोड को देखा जा रहा है भाजपा में विधायक का भारी विरोध होने के बाद भी अंतत: टिकट का फैसला विधायक के हक में होने की संभावना दिखाई दे रही है वैसे भी विधायक के कद का भाजपा में दूसरा कोई दावेदार नहीं होने के कारण मोहोड की टिकट पक्की मानी जा रही है।

किसी दैवीय कोप के कारण ही नाना की टिकट कट सकती है। भाजपा के प्रत्याशी नाना मोहोड़ का मुकाबला कांग्रेस के विजय चौरे संदीप भकने या युवराज जिचकार में से किसी एक के साथ हो सकता है।

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और बहुजन समाज पार्टी विधायक नाना मोहो? के लिए मजबूत सुरक्षा कवच साबित हो सकती है। कांग्रेस इन सुरक्षा कवच को भेदने के लिए क्या उपाय करती है यह देखने वाली बात होगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *