6 किसानों की गाड़ी से कुचलकर कर हुई हत्या पर लखीमपुर में बवाल,सियासत गरमाई राकेश टिकैत,राहुल,प्रियंकाअखिलेश,जयंत,संजय सिंह,मायावती,पीएल पुनिया, अरविंद सिंह गोप,रणधीर सिंह सुमन का खौला खून,कल लखीमपुर जाने का एलान, मुख्यमंत्री गोरखपुर से राजधानी पहुचे,ADG L&O प्रशांत कुमार मौके के लिये रवाना

Breaking News ज़रा हटके देश बाराबंकी

तहलका टुडे टीम
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे ने किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी। इस घटना में 6 किसानों की मौत हो गई है। इनमें से 2 की मौत गाड़ी से कुचलकर हुई, जबकि 4 की मौत गाड़ी पलटने से हुई। घटना में 8 किसान घायल भी बताए गए हैं। इस घटना के बाद गुस्साए किसानों ने मंत्री के बेटे की गाड़ी समेत दो गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। गोरखपुर के सारे कार्यक्रम निरस्त कर मुख्यमंत्री लखनऊ पहुँच गये है। ADG L&O प्रशांत कुमार मौके के लिये रवाना हो गये है,3 कम्पनी PAC भी रवाना की गई

जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा और UP के डिप्टी CM केशव मौर्य एक कार्यक्रम के लिए लखीमपुर खीरी पहुंचे थे। जब इसकी जानकारी कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को लगी, तो वे हेलिपैड पर पहुंच गए। किसानों ने रविवार सुबह 8 बजे ही हेलिपेड पर कब्जा कर लिया था।

इसके बाद, दोपहर करीब 2.45 बजे सड़क के रास्ते मिश्रा और मौर्य का काफिला तिकोनिया चौराहे से गुजरा, तो किसान उन्हें काले झंडे दिखाने दौड़ पड़े। इसी दौरान काफिले में शामिल अजय मिश्रा के बेटे अभिषेक ने अपनी गाड़ी किसानों पर चढ़ा दी। यह देखकर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने अभिषेक मिश्रा की गाड़ी समेत दो गाड़ियों में आग लगा दी

मंत्री के बेटे अभिषेक की गाड़ी रोकने की कोशिश में एक महिला सिपाही समेत 2 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। इधर, घटना की जानकारी मिलते मुख्यमंत्री योगी ने ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार को लखीमपुर भेजा है। ​रेंज IG लक्ष्मी सिंह भी लखनऊ से लखीमपुर के लिए रवाना हो गई हैं। इधर, BKU के प्रवक्ता राकेश टिकैत भी गाजीपुर बॉर्डर से लखीमपुर के लिए रवाना हो गए हैं।
घटना में घायल किसान को अस्पताल ले जाते हुए प्रदर्शनकारी।
किसान यूनियन ने जिले के किसानों से अलर्ट रहने को कहा
इस घटना के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने सभी जिलों के किसानों को अलर्ट मोड पर रहने के लिए कहा है। BKU के प्रवक्ता राकेश टिकैत के गाजीपुर से लखीमपुर खीरी पहुंचने के बाद किसान अगली रणनीति पर काम कर सकते हैं।

मिश्रा पहले भी किसानों को लेकर विवादित बयान दे चुके हैं
दरअसल, हेलिपैड पर कब्जा होने की जानकारी पाकर अजय मिश्रा और केशव मौर्य लखनऊ से सड़क मार्ग से लखीमपुर जिला मुख्यालय पहुंचे थे। यहां योजनाओं का लोकार्पण करने के बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय राज्यमंत्री हेलिकॉप्टर की बजाय गाड़ी से बनवारी गांव जा रहे थे। बनवारी गांव अजय मिश्रा का पैतृक गांव है। यहां कुश्ती प्रतियोगिता की शुरुआत करनी थी। प्रशासन ने बनवारी गांव के पास तनाव को लेकर पहले ही अलर्ट किया था।

दरअसल, किसान हफ्ते भर पहले दिए अजय मिश्रा टेनी के एक बयान से आहत हैं। किसानों का कहना है कि मंत्री बनने के बाद अजय मिश्रा ने कहा था कि हम अपनी पर आ गए तो हम क्या कर सकते हैं? यह सब जानते हैं। अजय मिश्रा ने यह बयान किसानों की तरफ से काले झंडे दिखाए जाने के बाद दिया था।

अजय मिश्रा ने कहा था- सुधर जाओ वरना सुधार देंगे
दरअसल, बीते 26 सितंबर को किसानों ने केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा को लखीमपुर में संपूर्णानगर क्षेत्र में काले झंडे दिखाए थे। मिश्रा एक जनसभा को संबोधित करने जा रहे थे। जनसभा में उन्होंने खुद के विरोध का जिक्र करते हुए मंच से किसानों को धमकी दी थी। कहा था कि किसानों के अगुवा यानी संयुक्त किसान मोर्चा के लोग प्रधानमंत्री मोदी का सामना नहीं कर पा रहे हैं। आंदोलन को 10 महीने हो गए।

काले झंडे दिखाने वालों के लिए आगे उन्होंने कहा कि अगर हम गाड़ी से उतर जाते तो उन्हें भागने का रास्ता नहीं मिलता। कृषि कानून को लेकर केवल 10-15 लोग शोर मचा रहे हैं। यदि कानून इतना गलत है तो अब तक पूरे देश में आंदोलन फैल जाना चाहिए। उन्होंने धमकी भरे लहजे में कहा था कि सुधर जाओ, नहीं तो सामना करो, वरना हम सुधार देंगे दो मिनट लगेंगे। विधायक-सांसद से बनने से पहले से लोग मेरे विषय में जानते होंगे कि मैं चुनौती से भागता नहीं हूं।

किसानों के हंगामे को देखते हुए डिप्टी सीएम के मुख्य कार्यक्रम का गेट बंद कर दिया गया। भारी पुलिस फोर्स मौके पर तैनात की गई। दरअसल, किसानों की तरफ से मौर्य और केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को काले झंडे दिखाने के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने यह इंतजाम किया था।

भारतीय किसान यूनियन ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है.

उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘लखीमपुर खीरी में आंदोलन कर रहे किसानों को गृह राज्य मंत्री टेनी के बेटे ने गाड़ी से रौंदा 3 किसानों की मौत. तेजेंद्र सिंह विर्क के भी घायल होने की सूचना है. राकेश टिकैत गाजीपुर से निकल रहे हैं.’ बताया जा रहा है कि किसानों ने डिप्‍टी सीएम केशव मौर्य और केंद्रीय राज्‍यमंत्री अजय मिश्र टेनी का हेलीकॉप्‍टर उतरने से पहले हेलीपैड पर कब्जा कर लिया था.

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने इस घटना को लेकर कहा है कि किसानों के इस बलिदान को बेकार नहीं जाने देंगे. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘जो इस अमानवीय नरसंहार को देखकर भी चुप है, वो पहले ही मर चुका है. लेकिन हम इस बलिदान को बेकार नहीं होने देंगे- किसान सत्याग्रह ज़िंदाबाद.’

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना को लेकर अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘कृषि कानूनों का शांतिपूर्ण विरोध कर रहे किसानों को भाजपा सरकार के गृह राज्यमंत्री के पुत्र द्वारा, गाड़ी से रौंदना घोर अमानवीय और क्रूर कृत्य है. यूपी दंभी भाजपाइयों का ज़ुल्म अब और नहीं सहेगा. यही हाल रहा तो प्रदेश में भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे, न उतर पाएंगे.’

 

AAP सांसद संजय सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘सत्ता का ऐसा नशा न आपने कभी देखा होगा न सुना होगा. 3 आंदोलनकारी किसानो को मंत्री के बेटे ने गाड़ी से रौंदकर मार दिया. कितने किसानो की शहादत लेंगे मोदी जी? हत्यारों को गिरफ़्तार करो CBI से जांच कराओ परिवार को मुआवज़ा दो.’

 

रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी ने अपनी प्रतिक्रिया में ट्वीट कर कहा कि लखीमपुर खीरी से दिल दहलाने वाली खबरें आ रहीं हैं. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का क़ाफ़िला आंदोलनकारी किसानों पर चढ़ा दिया गया. 2 किसानों की मौत हो गई और कई घायल हैं. विरोध को कुचलने का काला कृत्य जो किया है, साज़िश जब गृह मंत्री रच रहे हैं, फिर कौन सुरक्षित है?

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘लखीमपुर खीरी में कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों पर भाजपा सरकार के गृह राज्य मंत्री टेनी के बेटे ने गाड़ी से रौंदा,कई किसानों की मौत एवं कई घायल! तानाशाही भाजपा सरकार आंदोलन नहीं कुचल पाई तो किसानों को ही कुचल बदला ले रही है!’

वहीं सपा के पूर्व कद्दावर मंत्री अरविंद सिंह गोप ने कहा कि किसान आंदोलन की हत्या करने में नाकाम होने के बाद अब भाजपा नेताओं द्वारा अन्नदाताओं की हत्या करने का काम शुरू कर दिया गया है. लखीमपुर खीरी में किसानों के साथ हुआ ये नरसंहार बेहद दर्दनाक है, ये अन्नदाताओं नहीं अपितु लोकतंत्र की हत्या ।

आल इण्डिया किसान सभा उ प्र के प्रदेश उपाध्यक्ष रणधीर सिंह सुमन लखीमपुर खीरी में तीन आंदोलन कारी किसानों की हत्या की निंदा करती है और अविलंब गृह राज्य मंत्री के बेटे पर हत्या का मुकदमा तथा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के उपर हत्या की साजिश का मुकदमा दर्ज किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *