FIR पर मुनव्वर राना की प्रतिक्रिया,कलम सच लिखने के लिए है पायजामे में नाड़ा डालने के लिए नहीं,हम जेल जाना पसंद करेंगे और जेल में ही मरना, लेकिन सच बोलना और सच लिखना नहीं छोड़ेंगे

Breaking News Latest Article अदब - मनोरंजन देश प्रदेश लखनऊ शेरो शायरी

तहलका टुडे टीम

लखनऊ-मशहूर शायर मुनव्वर राना ने फ्रांस में हुई हत्या पर दिए गए अपने बयान को लेकर दर्ज की गई एफआईआर पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। राना ने कहा है कि हमारे पास जो कलम है वह सच लिखने के लिए है, पायजामे में नाड़ा डालने के लिए नहीं। इसके साथ ही उन्होंने साफतौर पर कहा कि हम जेल जाना और जेल में ही मरना पसंद करेंगे, लेकिन सच बोलना और सच लिखना नहीं छोड़ेंगे।

दरअसल शायर मुनव्वर राना ने अपने बयान में फ्रांस में पैगम्बर मोहम्मद का विवादित कार्टून बनाए जाने के बाद हाल ही में हुई हत्या की घटना को अंजाम देने वाले आरोपी का बचाव किया था।
उन्होंने आरोपी के बचाव में तर्क देते हुए कहा था कि मजहब मां के जैसा है, अगर कोई आपकी मां का या मजहब का बुरा कार्टून बनाता है या गाली देता है तो वो गुस्से में इस तरह की घटना को अंजाम देने के लिए मजबूर हो जाता है।  उन्होंने यह भी कहा था कि मुसलमानों को चिढ़ाने के लिए विवादित कार्टून बनाया गया था। बता दें कि राना के इसी बयान को लेकर उनके खिलाफ
लखनऊ में हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज करवाई गई है। अपने खिलाफ दर्ज हुई इस एफआईआर के बारे में बोलते हुए राना ने कहा कि मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं है, अगर मुझे पता होता तो मैं खुद थाने चला जाता।

उन्होंने कहा कि मुझे नहीं मालूम था, अभी मुझे किसी ने बताया कि कोई दीपक पांडे नाम का दरोगा है, जिसने मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है। उन्होंने कहा कि मैं किसी दीपक पांडे नाम के दरोगा को नहीं जानता। मुझे पता है यह हाईस्कूल फेल नकल करके पास होने वाला दरोगा है।

मैं अपने बयान पर आज भी कायम हूं: राना
मुनव्वर राना ने कहा कि हम अपने बयान पर कायम रहेंगे, हम जेल जाना पसंद करेंगे और जेल में ही मरना पसंद करेंगे। हम उन लोगों की तरह नहीं जो मुकदमे वापस करवाते फिरते हैं और सच बोलने से डरते हैं। उन्होंने कहा कि 70 साल से मैं सच के साथ हूं।

मौजूदा समय में देश में हालात ऐसा हो गए हैं कि मैं जो भी बयान देता हूं उसका विरोध शुरू हो जाता है। उन्होंने कहा कि मैं उन शायरों में नहीं हूं जिनको सरकार से वजीफा या पैसा चाहिए होता है। हमारे पास जो कलम है वह सच लिखने के लिए है, पायजामे में नाड़ा डालने के लिए नहीं।

जिस वक्त मैंने अवार्ड वापस किया था तब भी कई लोगों ने मुझे जान से मारने की धमकी दी थी। मुझसे कहा गया था कि आप सुरक्षा ले लें। मैं 40 गाड़ियों के काफिले के साथ नहीं बल्कि अपनी कार में चलना पसंद करता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *