मदरसों के बच्चों को आधुनिक बनाने आधुनिक शिक्षा जरूरी: बृजमोहन अग्रवाल

राज्य

रायपुर : कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा है कि मदरसों को वहां पढ़ने वाले बच्चों के सुखद भविष्य बनाने के केन्द्र के रूप में विकसित करने की जरूरत है। सभी मदरसों में आधुनिक शिक्षा की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए। मदरसों के बच्चों को आधुनिक बनाने के लिए आधुनिक शिक्षा देना आवश्यक है।

श्री अग्रवाल छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड द्वारा हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूल पत्राचार पाठ्यक्रम में शामिल होने वाले बच्चों के लिए आयोजित दस दिवसीय छात्र संपर्क कार्यक्रम के समापन समारोह में आज इस आशय के विचार व्यक्त किए।

बोर्ड की ओर से हर साल पत्राचार पाठ्यक्रम में शामिल होने बच्चों के लिए छात्र संपर्क कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इसके अंतर्गत बच्चों की दस दिन तक विशेष कक्षाएं लगाकर परीक्षा की तैयारियां करायी जाती है। इस साल के छात्र संपर्क पाठ्यक्रम में रायपुर शहर के 166 बच्चे शामिल हुए।

पिछले साल इस कार्यक्रम में एक सौ बच्चे शामिल हुए थे। छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष श्री मिर्जा एजाज बेग ने उर्दू कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शास्त्री बाजार में आयोजित समापन समारोह की अध्यक्षता की।

कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड द्वारा हाई स्कूल और हायर सेकेण्डरी स्कूल पत्राचार पाठ्यक्रम में अधिक से अधिक बच्चों को शामिल करने के लिए हर साल आयोजित किए जा रहे छात्र संपर्क कार्यक्रम को अच्छी सफलता मिल रही है।

मुस्लिम समाज के अधिक से अधिक बच्चों को इस कार्यक्रम का लाभ उठाना चाहिए। श्री अग्रवाल ने कहा कि मदरसों में बच्चों को आधुनिक शिक्षा देने हर संभव कोशिश होनी चाहिए। जिस दिन मदरसों में इस प्रकार की शिक्षा व्यवस्था होगी, भारत के गुलदस्ते में मुस्लिम समाज के बच्चे भी चमकने लगेंगे।

उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति की तरक्की के लिए समाज और देश की तरक्की जरूरी है। श्री अग्रवाल ने कहा कि मदरसों में बच्चों के लिए फर्नीचर की व्यवस्था की गई है। इस वर्ष बच्चों को शाला गणवेश भी दिए जा रहे हैं। कला समूह के साथ-साथ अब सांईंस और कॉमर्स में भी पत्राचार पाठ्यक्रम में परीक्षा देने की सुविधा उपलब्ध हो गई है। इसका लाभ मुस्लिम समाज के बच्चों को उठाना चाहिए।

त्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष श्री मिर्जा एजाज बेग ने कहा कि मदरसों में आधुनिक शिक्षा शुरू करने का श्रेय देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी को जाता है। उनके सार्थक प्रयासों से ही देश के मदरसों में आधुनिक शिक्षा की व्यवस्था हुई। सभी समाज को साथ लेकर चलने की उनकी सोच और दूरदृष्टि ने मदरसों के बच्चों को आधुनिक शिक्षा से जोड़ने का काम किया है।

श्री बेग ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ के मदरसों में शिक्षा की सुविधाएं उपलब्ध कराने ठोस कार्य हुए हैं। इस दौरान मदरसों में मूलभूत सुविधाओं के विकास पर विशेष जोर दिया गया। श्री बेग ने कहा कि शिक्षा मंत्री के रूप में श्री बृजमोहन अग्रवाल ने मदरसों के लिए कम्प्यूटर और सांईंस किट उपलब्ध कराई। मदरसा बोर्ड में पत्राचार परीक्षा लेने की अनुमति श्री बृजमोहन अग्रवाल ने दी।

र्यक्रम का संचालन मौलाना जहीरूद्दीन ने किया। इस अवसर पर बोर्ड के सदस्य श्री मिर्जा साजिद पठान, बैजनाथ पारा वार्ड के पूर्व पार्षद श्री राधेश्याम बुंदेला, सचिव डॉ. इम्तियाज अहमद अंसारी, सहायक संचालक श्री पी.पी. द्विवेदी, उर्दू कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की शिक्षक

डॉ. शहनाज तितल, श्रीमती अख्तर शाह, श्रीमती खतीजा परवीन, श्रीमती शहजादी, छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड के श्री सुखनवर हुसैन, श्री सतीश शर्मा, श्रीमती अख्तर खान, डॉ. शबा परवीन, श्रीमती अफरोज सहित विभिन्न मदरसों के मौलाना हजरात एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *