दाऊद इब्राहिम के भारत लौटने का मामला, अंडरवर्ल्‍ड डॉन के वकील ने कहा- उनके बयान का…

देश

मुंबई: क्रिमिनल लॉयर और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के वकील श्‍याम केसवानी नेे कहा कि की भारत वापसी के संबंध में अदालत में जो टिप्‍पणी की गई उसका गलत अर्थ निकाला गया क्‍योंकि वह कुछ साल पहले हुई घटनाओं की बात कर रहे थे. वकील श्‍याम केसवानी ने कहा कि वह कोर्ट में छह-सात साल पुरानी घटना का जिक्र अदालत में कर रहे थे जिसका मीडिया ने गलत अर्थ निकाला. उन्होंने कहा कि वह दाऊद के छोटे भाई इकबाल कास्कर की रिमांड पर पुलिस की याचिका पर अदालत में जिरह कर रहे थे. ठाणे में दाऊद इब्राहिम और उसके भाई अनीस इब्राहिम के खिलाफ एक बिल्‍डर से जबरन वसूली का केस दर्ज किया था.

केसवानी ने कहा कि इस मामले की सुनवाई के दौरान मैंने मजिस्‍ट्रेट को बताया कि दाऊद इब्राहिम ने एक वकील को भारत लौटने की इच्‍छा जाहिर की थी. उन्‍होंने कहा कि उस वक्‍त उसकी तबीयत ठीक नहीं थी और वह हाई सिक्‍योरिटी वाली आर्थर रोड जेल में रहने की इच्‍छा जाहिर की थी.  वकील केसवानी ने कहा कि दाऊद के बारे में उनकी प्रतिक्रिया मजिस्ट्रेट के जवाब में थी. जब उन्‍होंने हल्‍के-फुल्‍के अंदाज में कासकर से दाऊद के ठिकाने के बारे में पूछा था.

उन्‍होंने कहा कि कासकर ने इसका जवाब न में दिया. उसने कोर्ट से कहा कि उसे दाऊद की लोकेशन के बारे में जानकारी नहीं है. इस पर केसवानी ने कई साल पुरानी घटनाओं का जिक्र किया था.

आपको बता दें कि इससे पहले मीडिया में खबर आई थी कि दाऊद इब्राहिम ने फिर भारत लौटने की इच्छा जताई है. अंडरवर्ल्ड डॉन कुछ शर्तों के साथ भारत लौटना चाहता है लेकिन भारत सरकार को उसकी शर्तें मंजूर नहीं हैं. केसवानी ने कहा कि दाऊद ने कुछ साल पहले भी भारत आने की इच्छा जताई थी. उस दौरान उसने जाने मानें वकील राम जेठमलानी से बात भी की थी. गौरतलब है कि आर्थर रोड जेल वही जेल है जहां मुंबई आतंकवादी हमले के आरोपी अजमल कसाब को फांसी देने से पहले चार साल तक रखा गया था.

ध्यान हो कि दाऊद के भारत लौटने की इच्छा को लेकर केसवानी का यह बयान महाराष्ट्र नव-निर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे के उस बयान के छह महीने बाद आया है जिसमें उन्होंने भी दाऊद के बारे में ऐसा ही कुछ कहा था. उस दौरान राज ठाकरे ने कहा था कि दाऊद इब्राहिम काफी बीमार है और भारत लौटना चाहता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *